Cloud Computing Kya Hai और इसके उपयोग क्या हैं?

Cloud Computing Kya Hai और इसके उपयोग क्या हैं?

Cloud Computing क्या है – ( Cloud Computing Kya Hai hindi ) ये शब्द आजकल काफी सुनने को मिलता है लेकिन क्या आपको पता है की Cloud Computing क्या है? क्यों इसका आजकल ज्यादा उपयोग हो रहा है। दोस्तों अगर आप नहीं जानते है तो आप बिलकुल सही पोस्ट पर है, मैं आपको इस पोस्ट में बताऊंगा की Cloud Computing Kya Hai और इसके उपयोग क्या हैं?

Cloud Computing को virtual storage बोल सकते है, जहां आप अपने files, Images , Videos संभाल कर रख सकते है। या किसी के साथ अपने files, Images, Videos को किसी के साथ शेयर करने के लिए आप Cloud Computing का उपयोग कर सकते है। जैसे की Computer network technologies पिछले कुछ दशकों में काफी तरक्की कर चुकी है. और जैसे – जैसे Internet का उपयोग बढ़ा है, वैसे ही इसके साथ साथ Computer network के field में भी बहुत काम हुई है खासकर Cloud Computing जैसे technologies के field में काफी research हुई है।

इतनी तेजी से Cloud Computing के फील्ड में काम हो रहा है और ये इतना लोकप्रिय और सहज होते जा रहा है की ये बहुत जल्द global market में अपना दबदबा बनाने वाला है और ये 2020 तक लगभग $330 billion तक की बिज़नेस बनजाएगी। आज के समय में ज्यादातर कंपनियां cloud Computing का इस्तेमाल कर रही है कुछ directly और कुछ indirectly.

अगर मैं उदहारण के तौर के पर बात करूँ तो google Services हम इस्तेमाल करते है तो हम डायरेक्ट cloud computing इस्तेमाल करते है और facebook या twitter का इस्तेमाल करते है तो indirect cloud computing इस्तेमाल करते है। तो चलिए cloud computing के बारे में विस्तार से जानते है की Cloud Computing क्या है और इसका उपयोग क्या है?

Cloud computing

Cloud Computing Kya Hai और इसके उपयोग क्या हैं?

Cloud Computing का मतलब है की आप कही से भी दुनिया के किसी कोने से आप अपने data, file, images, services इत्यादि को access और इस्तेमाल कर सकते है। उदहारण के लिए yahoo mail, gmail, google drive इत्यादि। कहने का मतलब है वो हर service जो internet के माध्यम से दी जाती है उसे Cloud Computing कहते है।

Cloud Computing के उदहारण

जैसे की मैं ऊपर बताया हूँ की आज के समय में ज्यादातर काम इंटरनेट के माध्यम से होते है तो ऐसे में आप समझ सकते है की Cloud Computing का क्या महत्त्व है आज के समय में ऐसे बहुत सर्विसेज है जो cloud computing से हमें मिलते है जैसे:

  • Youtube
  • Gmail
  • Google Drive
  • Google Docs
  • Picasa
  • Flikr, इत्यादि

Cloud Computing Characteristics

User Flexibility : Cloud Computing के मदद से Companies अपने quickness में सुधार किया जा सकता है, क्योंकि क्लाउड कंप्यूटिंग तकनीकी Infrastructure संसाधनों को फिर सेप्रावधान, जोड़ने या विस्तार करने के साथ User Flexibility को बढ़ा सकती है।

Cost reductions : Cloud Computing के मदद से Companies अपने काम के अनुसार cloud को बढ़ा या कम कर सकती है इससे Companies को infrastructure पर होने वाले खर्च की बचत होती है जिसे companies को बहुत फ़ायदा होता है

Maintenance : क्लाउड कंप्यूटिंग Applications का रखरखाव काफी आसान है, क्योंकि Cloud Computing Applications को परतेक उपभोक्ता की personal Computer में Install करने की जरुरत नहीं होती है इसे आप एक लिंक के माध्यम से कही से भी इस्तेमाल कर सकते है।

Cloud Computing के प्रकार

दोस्तों क्लाउड कंप्यूटिंग 4 प्रकार का होता है तो चलिए जानते है की ये प्रकार कौन कौन से है :

  • Public Cloud – इसे अगर मैं आसान भाषा में समझाऊं तो हर वो फाइल जिसे कोई भी download कर सकता हो उसे Public Cloud Computing कहते है। वो फाइल PDF, Images, Video, Doc, इत्यादि कुछ भी हो सकता है। कहने का मतलब है की internet के माध्यम से कोई भी फाइल आपके अलावा दूसरा कोई भी डाउनलोड कर सकता है तो उसे Public cloud कहते है।
  • Private Cloud – .इसमें आपके files को आपकेअलावा दूसरा कोई एक्सेस नहीं कर सकता है इसको एक्सेस करने के लिए ID और password की जरुरत होती है। जैसे Google Drive, Dropbox इत्यादि।
  • Community Cloud – इसमें आप जिस जिस को एक्सेस देना चाहेंगे उसे आप दे सकते हो और सिर्फ वही person एक्सेस कर पायेगा जिससे आपने एक्सेस दिया है।
Cloud Computing Kya Hai
  • Hybrid Cloud – जहाँ Private Cloud और Public Cloud दोनों का उपयोग होता है जिसमें किसी Site पर कुछ Data सार्वजनिक (Public) तौर पर Available रहता है, और कुछ Data Registered Users के लिए Available रहता है, इसे Hybrid Cloud Computing कहते है|

Cloud Computing के Services कितने प्रकार के होते है

Cloud Computing के सर्विसेज 3 प्रकार के होते है चलिए जानते है की ये प्रकार कौन कौन से है :

Infrastructure as a service (IaaS)

Infrastructure as a service: ऑनलाइन सेवाओं को Refer करता है जो उच्च स्तर के एपीआई प्रदान करता है। यह सर्विस ऑन डिमांड आईटी इंफ्रास्ट्रक्चर एक्सेस देती है। कंप्यूटिंग संसाधन, स्थान, डेटा विभाजन, स्केलिंग, सुरक्षा, बैकअप आदि। इसमें डिमांड के अनुसार सेवाओं को ऊपर और नीचे स्केल कर सकते हैं।

Platform as a service (PaaS)

यह एक क्लाउड बेस मॉडल है, जिसे आप एप्लीकेशन को डेवलप, टेस्ट, रन और मैनेज करने के लिए इस्तेमाल करते हैं। इस सर्विस में वेब सर्वर, एक्जीक्यूशन रनटाइम और ऑनलाइन डेटाबेस शामिल हैं। इसमें आप फास्ट काम कर सकते हैं और एप्लीकेशन को जल्दी रिलीज कर सकते हैं।

Software as a service (SaaS)

उपभोक्ता को प्रदान की जाने वाली क्षमता क्लाउड इन्फ्रास्ट्रक्चर पर चल रहे प्रदाता के अनुप्रयोगों का उपयोग करना है। अनुप्रयोग विभिन्न क्लाइंट डिवाइसों से या तो एक पतले क्लाइंट इंटरफ़ेस, जैसे कि वेब ब्राउज़र (जैसे, वेब-आधारित ईमेल), या प्रोग्राम इंटरफ़ेस के माध्यम से सुलभ हैं। उपभोक्ता सीमित उपयोगकर्ता-विशिष्ट अनुप्रयोग कॉन्फ़िगरेशन सेटिंग्स के संभावित अपवाद के साथ नेटवर्क, सर्वर, ऑपरेटिंग सिस्टम, भंडारण, या यहां तक कि व्यक्तिगत एप्लिकेशन क्षमताओं सहित अंतर्निहित क्लाउड बुनियादी ढांचे का प्रबंधन या नियंत्रण नहीं करता है।

सॉफ्टवेयर में एक सेवा (सास) मॉडल के रूप में, उपयोगकर्ता एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर और डेटाबेस तक पहुंच प्राप्त करते हैं। क्लाउड प्रदाता उन बुनियादी सुविधाओं और प्लेटफार्मों का प्रबंधन करते हैं जो अनुप्रयोगों को चलाते हैं।

Cloud Computing के प्रमुख विशेषताएं

  • Low Cost : किसी कंपनीको कम या लगभग शून्य लागत पर आरम्भ किया जा सकता है। चलाने का खर्च भी कम है क्योंकि इसमें उपभोग के अनुसार भुगतान की सुविधा उपलब्ध है।
  • Fast Speed : Cloud Computing companies आपके डिमांड के अनुसार resources कुछ ही समय में उपलब्ध करा सकती है।
  • क्लाउड कम्प्यूटिंग की सुविधाएँ एपीआई (API) के माध्यम से इसका उपयोग किया जा सकता है क्योंकि यह ब्राउजर पर आधारित है।
  • Reliability : ये कुछ विश्वशनीय और बड़े कंपनियों द्वारा सेवा प्रदान किया जाता है। जैसे Amazon एक विश्वशनीय कंपनी है
  • Scalability : इसे आप अपने जरुरत के अनुसार कम या ज्यादा कर सकते है और ये बदलाव आप कुछ मिनटों में करा सकते है
  • Environmental Compatibility : क्लाउड ऊर्जा की बचत करने के साथ ही कार्बन उत्सर्जन कम कर पर्यावरण को बचाने में सहायता करता है

Cloud Computing के फायदे

  • अपने डाटा को बिना Hard Drive के कही से भी एक्सेस कर सकते है।
  • किसी भी डाटा को एक साथ कई जगहों से यूज़ अलग अलग यूज़र के द्वारा एक्सेस और उपयोग किया जा सकता है।
  • अपने डाटा को safe रख सकते है, जैसे अगर आपके कंप्यूटर में कोई डाटा है और आपका कंप्यूटर ख़राब होजाये तो आपका डाटा लॉस्ट हो सकता है जबकि क्लाउड पर आपका डाटा कभी लॉस्ट नहीं होगा जबतक आप डिलीट ना करें।
  • Cloud Storage के लिए आपको किसी भी तरह की हार्ड ड्राइव की जरुरत नहीं होती है

निष्कर्ष – Cloud Computing Kya Hai और इसके उपयोग क्या हैं?

दोस्तों मुझे उम्मीद है आपलोगो को अच्छी से समझ आगया होगा की Cloud Computing Kya Hai और इसके उपयोग क्या हैं? अगर आपके मन में कोई सवाल या सुझाव हो तो आप निचे कमेंट में लिखे मैं पूरा कोशिश करूँगा हल करने का। ये पोस्ट पढ़ने के लिए धन्यवाद! अगर ये पोस्ट आपको अच्छा लगा हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें ताकि जो नहीं जानते है वोलोग भी जान सकें।

हमारा देश बदल रहा है, आइये इस मुहीम में कदम से कदम मिला कर चलें

Amit Bhardwaj

नमस्कार दोस्तों, मैं Amit Bhardwaj, Technical Basket का Technical Author & Founder हूँ. Education की बात करूँ तो मैं Computer Science Se Graduate हूँ. और प्रोफेशनली मैं एक वेब एंड ग्राफ़िक डिज़ाइनर हूँ और एक्सपीरियंस की बात करूँ तो मुझे 9 Years + का एक्सपीरियंस हैं ग्राफ़िक एंड वेब डिजाइनिंग में, मुझे नयी नयी Technology से सम्बंधित चीज़ों को सीखना और दूसरों को सीखने में अच्छा लगता है. अगर मेरा पोस्ट अच्छा लगे तो आप लोग अपना सहयोग दे ताकि मैं आप लोगो को नई नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहूँ :)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © 2019 -Technical Basket - All Rights Reserved.