Graphic Design Tips in Hindi – डिजाइनिंग टिप्स

Graphic Design Tips in Hindi ? इस पोस्ट में मैं आपके साथ Graphic Designing की कुछ बुनियादी टिप्स और टेक्निक्स को साझा करने की कोशिश किया हूँ। जो मैंने अपने पिछले 10+ वर्ष के अनुभव से सीखा हूँ, यदि आप इन सुझावों का पालन करेंगे तो निश्चित रूप से आपको काफी सहायता मिलेगी अपने डिज़ाइन को बेहतर और प्रभावशाली बनाने में

ग्राफिक डिजाइनर का काम अपने ग्राहकों (Clients ) के लिए रचनात्मक डिज़ाइन (Creative Design) बनाना है, जो उनके ग्राहक के संस्थान (Company) को सबसे अलग कर सके हैं।

मेरा मतलब हैं कुछ नया दिखा सके अपने रचनात्मक डिज़ाइन के माध्यम से, इस काम के लिए सबसे पहले जरूरी है रचनात्मकता ( Creativity ) इसके अलावा, उद्योग के रुझानों ( Industrial Trends ) का पूरा ज्ञान, Graphic Designing के क्षेत्र में नए सॉफ्टवेयर का ज्ञान, Professional Approaches और समय पर काम पूरा करने की क्षमता होना भी महत्वपूर्ण है।

ये सब होगा तब ही आप एक Professional Graphic Designer बन सकते हैं| तो चलिए बिना समय गवाए मैं बताता हूँ कुछ इम्पोर्टेन्ट टिप्स Graphic Design Tips |

Graphic Design Tips in Hindi – ग्राफ़िक डिजाइनिंग टिप्स

1.) Font

डिजाइनिंग में फॉन्ट की बहुत बड़ी भूमिका होती है, इसलिए फॉन्ट इस्तेमाल करने के तरीकों से ही जाना जा सकता है, कि आप कितनी अच्छी तरह से डिजाइन बना रहे हैं या डिजाइनिंग का कितना ज्ञान है।

दोस्तों, मेरी राय है कि आप अपने डिज़ाइन में कभी भी 2 फॉण्ट से ज्यादा का उपयोग न करें, और कोशिस करें की आप जिन 2 फॉण्ट का इस्तेमाल अपने डिज़ाइन में कर रहें हैं ओ एक ही फैमिली का हो, जैसे आपने Calibri फॉण्ट लिया तो आप कोशिस करें की Calibri Family का ही Bold, Light, Italic इस तरह से इस्तेमाल करे Requirement के अनुसार |

अगर आप डिजाइनिंग छेत्र में नये है, अभी डिज़ाइन करना शुरू किया है या आप पहले से करते हैं लेकिन आपका डिज़ाइन प्रभावशाली नहीं बन पता है, तो इसका एक बड़ा कारण फ़ॉन्ट है, 60% लोगों को मैंने देखा की वे लोग अपने डिज़ाइन में अजीबों ग़रीब फ़ॉन्ट और कई फोंट वे एक ही डिजाइन में उपयोग करते हैं, जिनका कोई उपयोग नहीं होता है| जैसे Title में अलग फॉण्ट Description, में अलग फॉण्ट Content में अलग फॉण्ट।

दोस्तों आप ऐसा नहीं करेंगे, आप अपने डिजाइन में केवल 2 फ़ॉन्ट का उपयोग करेंगे, आप एक बार सही से 2 फॉण्ट का उपयोग करके देखे आपको खुद पता चल जायेगा, की मैं ऐसा क्यों बोल रहा हूँ की सिर्फ 2 फॉण्ट का उपयोग करें।

Rule of Third :

यह बहुत सरल है, लेकिन बहुत ही महत्पूर्ण हैं एक अच्छा डिज़ाइनर बनने के लिए Rule of Third को याद रखना, इसके लिए जब भी कोई डिज़ाइन बनाना शुरू करते हैं तो सबसे पहले अपने पेज पर 2 वर्टिकल और 2 हॉरिजॉन्टल रूलर लाइन लें और 9 बॉक्स बनाएं और रूलर लाइन के क्रॉस पॉइंट पर आप अपनी ऑब्जेक्ट या टेक्स्ट का उपयोग करें हैं, उसके बाद आप अपना डिज़ाइन बना कर देखे आपको फर्क खुद दिख जायेगा आपके पिछले डिज़ाइन से काफी बेहतर होगा, 85% समस्या हल हो जाएगी, जब आप नियमित रूप से इस विधि का पालन करेंगे, आपको बार बार रूलर लाइन को लेने की कोई आवश्यकता नहीं होगी क्योंकि आपके माइंड सेट हो जाएगा कि ऑब्जेक्ट या टेक्स्ट का उपयोग कहां करें | Graphic Design Tips

Photography and Color Block:

सबसे पहले, यदि आप किसी पिक्चर का उपयोग कर रहे हैं, तो एक बात का ध्यान रखें कि आप जो टेक्स्ट (Text) का इस्तेमाल कर रहे उसके कलर को पिक्चर के कलर से मिलता जुलता रखे इसे आपका डिज़ाइन प्रभावशाली दिखाई देगा।

Font Pairing:

Graphic Design Tips in Hindi

अगर आप फॉन्ट पेयरिंग सीख लेते हैं तो आप कह सकते हैं की आपने 100% डिजाइनिंग स्किल सिख लिया हैं , फॉन्ट पैनिंग बहुत उपयोगी है जैसे कि आप कोई भी डिज़ाइन Poster, Banner, Flyer बना रहे हैं। आपको अपने डिज़ाइन में कोई भी 2 फॉण्ट का इस्तेमाल करना हैं जैसे की मैंने ऊपर बताया था हर फॉन्ट के साथ पैक होता हैं जैसे बोल्ड, लाइट, इटैलिक, जिस फॉन्ट का आप उपयोग कर रहे हैं, आप अपने डिजाइन में उस Font Family के साथ कुछ देर खेलिए और देखिये कि किस फ़ॉन्ट के साथ पेअर बना रहा है जब आपको लगता है कि ये पेअर ठीक है तो उस फ़ॉन्ट जोड़ी का उपयोग अपने डिजाइन में करें। Font Pairing इम्पोर्टेन्ट Graphic Design Tips है|

White Space:

Graphic Design Tips

व्हाइट स्पेस को समझना बहुत मुश्किल है लेकिन व्हाइट स्पेस का उपयोग किसी भी डिज़ाइन में अद्भुत है, अगर आप एक बार व्हाइट स्पेस को समझ गए हैं, तो इसका मतलब है कि आपने डिज़ाइन के उन्नत स्तर ( Advance Lavel ) पर जान लिया है।

What is Affiliate Marketing Hindi

सबसे पहले, आपको कुछ पोस्टर या डिज़ाइन बनाने चाहिए, जिसमें 80% का व्हाइट स्पेस हो, आप डिज़ाइन को Rule of Third के साथ बना सकते हैं और इस तरह के 10-12 डिज़ाइन बना सकते हैं, फिर आप व्हाइट स्पेस का अर्थ समझेंगे। वाइट स्पेस इम्पोर्टेन्ट Graphic Design Tips है|

Learning – Graphic Design Tips

यदि आप डिजाइनिंग में नए हैं तो आप किसी और के डिजाइन को देखे जो आपको अच्छा लगे और उस डिज़ाइन में देखने और समझने की कोशिस कीजिये की उसने कैसे बनाया है, और उस डिज़ाइन को बनाने के लिए किस किस एलिमेंट (Element) का उपयोग किया गया है, और देखें कि क्या चुनौतियां आती हैं, क्या आपसे नहीं कठिन लग रहा हैं, मैं यह नहीं कह रहा हूं कि आप किसी और के डिजाइन का उपयोग करें, लेकिन अपने प्रेक्टिस के लिए उस डिज़ाइन को बनाने का कोशिस करे जब आप 2-4-6 बार उस डिज़ाइन को बनाने का प्रयास करेंगे। और यदि आप उस डिज़ाइन को कम से कम 60% भी बनलेते हैं, तो इसका मतलब है कि आप डिजाइन करना सीख रहे हैं

Best Ways to Make Money Online in Hindi

Graphic Design Tips in Hindi – निष्कर्ष

मुझे उम्मीद है की आपको Graphic Design Tips in Hindi -आपको समझ में आगया होगा अगर आपके मन में कोई सवाल हैं, तो आप मुझे कमेंट कर सकते हैं, या आप मुझे मेल लिख सकते है Graphic Design Tips in Hindi यह पोस्ट पढ़ने के लिए धन्यवाद। अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ Facebook, Twitter पर शेयर करें।

Technical Author
नमस्कार दोस्तों, मैं Amit Bhardwaj, Technical Basket का Technical Author & Founder हूँ. Education की बात करूँ तो मैं Computer Science Se Graduate हूँ. और प्रोफेशनली मैं एक वेब एंड ग्राफ़िक डिज़ाइनर हूँ और एक्सपीरियंस की बात करूँ तो मुझे 8 Years + का एक्सपीरियंस हैं ग्राफ़िक एंड वेब डिजाइनिंग में, मुझे नयी नयी Technology से सम्बंधित चीज़ों को सीखना और दूसरों को सीखने में अच्छा लगता है. अगर मेरा पोस्ट अच्छा लगे तो आप लोग अपना सहयोग दे ताकि मैं आप लोगो को नई नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहूँ :)

2 thoughts on “Graphic Design Tips in Hindi – डिजाइनिंग टिप्स

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *